10 Golden Rules Of Trading In Hindi

10 Golden Rules Of Trading In Hindi | 10 Rules jinse aap safal trader ban sakte hai 10 नियम जो आपको बना देंगे सफल ट्रेडर | Successful Trader Kaise Bane10 Rules jinse aap safal trader ban sakte hai

10 ऐसे नियम जिन्हें आप के ट्रेडिंग करियर को सफल बनाने के लिए ब्रम्हस्त्र है हमें किन चीजो का ध्यान देना चाहिए ट्रेड करते वक्त आज एस पोस्ट में हम जानेंगे |

10 नियम जो आपको बना देंगे सफल ट्रेडर | Successful Trader Kaise Bane

शेयर बाज़ार में जो लोग भी प्रवेश करते है उनका बस एक सपना होता है की ओ कितना जल्दी बहोत सारा पैसा कमा ले लेकिन होता ये है की ज्यदातर लोग बहोत सारा पैसा कमा तो नहीं पाते लेकिन बहोत सारा पैसा खो देते है अगर आपके पास अगर शेयर बाज़ार की समझ न हो तो अगर आपको लगता है की आप शेयर बाज़ार में प्रवेश करते ही बहोत पैसा बना लेंगे तो आप गलत सोच रहे है हो सकता है |

आप शुरवाती दिनों में खूब पैसा कमा ले लेकिन यह आपके लिए और भी खतरनाक साबित हो सकता है क्यंकि उसके आपको लगने लगेगा की आपको तो सबकुछ आता है और बिना किसी प्लान के मार्किट को और अधिक पैसा दल देंगे जिससे आपका बहोत जादा नुकशान हो सकता है अगर आप एक सफल ट्रेडर बनाना चाहते है तो आपको हम 10 नियम जो आपको बना देंगे सफल ट्रेडर |

1.सिखने पर ध्यान दीजिये (Golden Rules Of Trading In Hindi)

10 Golden Rules Of Trading In Hindi | 10 Rules jinse aap safal trader ban sakte hai 10 नियम जो आपको बना देंगे सफल ट्रेडर | Successful Trader Kaise Bane10 Rules jinse aap safal trader ban sakte hai

शेयर बाजार को लोग एक गेम समझने लगते है लेकिन हमें समझना होगा की शेयर बाज़ार एक गेम नहीं बल्कि एक बिज़नस है जिसे करने के लिए हमें सीखना होगा अब इसे सिखने के लिए आप बुक्स पढ़िए ऑनलाइन videos देखिये किसी सफल ट्रेडर्स से राय लीजिये उनकी द्वारा बताई बातो को ध्यान में रखिये और उसके बाद अपनी भी रिसर्च करिए जिससे आपको काफी कुछ सिख सकते है |

सिखने का मतलब ये नहीं की आप कुछ ऑनलाइन videos देख लिए और कुछ बुक्स पढ़ लिए तो आप हो गए सफल ट्रेडर्स हमें कम से कम एक शाल से दो साल केवल सिखने पर फोकस करना चाहिए शेयर बाज़ार एक अलग दुनिया है |

जिसे सिखने के लिए बहोत टाइम लगता है और ऐसा भी नहीं है की हम कुछ शाल सिखाने के बाद हम सीखना छोड़ दे हमें पूरी जिंदगी इसे सीखते रहना चाहिए जिससे आप धीरे-धीरे एक हैबिट बन जाती और हम उसे भूलते नहीं है सबसे पहले कुछ आवश्यक चीजे जान लेने की कोशिस करे जैसे –

निफ्टी 50 क्या है , सेंसेक्स क्या है , Bull Market और Bear Market क्या है , पोर्टफोलियो क्या है , डिविडेंड क्या है , ट्रेडिंग अकाउंट , Demat अकाउंट क्या होता है आदि चीजो के बारे में सीखना होगा ! सीखने के लिए आप youtube , ब्लॉग या फिर किसी शेयर बाज़ार के बुक्स  का सहारा ले सकते है !

2.टेक्निकल एनालिसिस सीखिए(Golden Rules Of Trading In Hindi)

टेक्निकल एनालिसिस (Technical Analysis) शेयर बाजार में उपयोग होने वाला एक विशेष प्रकार का विश्लेषण है जो केवल आधारभूत वित्तीय और मूल्यांकन आंकड़ों के आधार पर होता है।

टेक्निकल एनालिसिस का उपयोग विभिन्न वित्तीय इंस्ट्रुमेंट्स (स्टॉक, कमोडिटी, मुद्रा आदि) के लिए किया जाता है ताकि विद्यमान आंकड़ों, ग्राफिक पैटर्न, और अन्य तकनीकी इंडिकेटर्स की मदद से मूल्य की गति, चाल, और भविष्यवाणी की जा सके।

यदि आप टेक्निकल एनालिसिस सीखना चाहते हैं, तो निम्नलिखित चरणों का पालन करके आप इसे शुरू कर सकते हैं:

  1. बुनियादी ज्ञान प्राप्त करें: सबसे पहले, आपको शेयर बाजार, आर्थिक अंकगणित, वित्तीय बाजार की बुनियादी जानकारी प्राप्त करनी चाहिए। इसमें शेयर बाजार के मूलभूत शब्दावली, शेयर बाजार के कामकाज, विभिन्न वित्तीय इंस्ट्रुमेंट्स, आंकड़े, वित्तीय सूचकांक, आदि शामिल हो सकते हैं।
  2. शेयर बाजार के विभिन्न टेक्निकल इंडिकेटर्स का अध्ययन करें: टेक्निकल एनालिसिस में विभिन्न इंडिकेटर्स (जैसे कि उपयोग बनाने वाली मांग और आपूर्ति, वापसी आंकड़े, स्टोकास्टिक्स, बोलिंजर बैंड्स, इत्यादि) का उपयोग होता है। इन इंडिकेटर्स के अध्ययन से आप उनके कामकाज, लाभ, और उनका मूल्यांकन कैसे करें यह सीख सकते हैं।
  3. टेक्निकल एनालिसिस ग्राफ पढ़ें: टेक्निकल एनालिसिस में ग्राफों का महत्वपूर्ण स्थान होता है। आपको विभिन्न ग्राफिक पैटर्न जैसे कि ट्रेंडलाइन्स, सपोर्ट और रेजिस्टेंस रेंज, मॉमेंटम, इत्यादि को समझने की आवश्यकता होती है। इसके लिए, आप चार्टिंग सॉफ्टवेयर का उपयोग कर सकते हैं और अभ्यास के लिए वास्तविक चार्ट्स देख सकते हैं।
  4. बुक्स और ऑनलाइन संसाधनों का उपयोग करें: टेक्निकल एनालिसिस के लिए बहुत सारी पुस्तकें और ऑनलाइन संसाधन उपलब्ध हैं जो आपको अधिक ज्ञान प्रदान कर सकते हैं

3.पेपर ट्रेडिंग करे (Golden Rules Of Trading In Hindi)

पेपर ट्रेडिंग करके आप वास्तविक में नुकसान नहीं करते हुए और बिना वास्तविक पैसे लगाए ट्रेडिंग का अभ्यास कर सकते हैं। यह आपको ट्रेडिंग के लिए नई टेक्निक्स और योजनाओं का प्रयोग करने और अभिज्ञता बढ़ाने का मौका देता है। यहां कुछ चरण हैं जो आपको पेपर ट्रेडिंग करने में मदद कर सकते हैं:

  1. वास्तविक बाजार निरीक्षण: पहले, आपको बाजार के चाल को समझने के लिए वास्तविक बाजार निरीक्षण करनी चाहिए। आप अपनी पसंदीदा वित्तीय इंस्ट्रुमेंट पर ध्यान केंद्रित करके ग्राफिक्स और चार्ट्स देख सकते हैं।
  2. ट्रेडिंग स्ट्रैटेजी का विकास: पेपर ट्रेडिंग के दौरान अलग-अलग ट्रेडिंग स्ट्रैटेजीज को आजमाने में समय लगाएं। विभिन्न टेक्निकल इंडिकेटर्स, चार्ट पैटर्न्स, स्टॉप-लॉस निर्धारण आदि का प्रयोग करके एक ट्रेडिंग प्लान बनाएं।
  3. ट्रेडिंग प्लेटफ़ॉर्म पर अभ्यास करें: एक वास्तविक ट्रेडिंग प्लेटफ़ॉर्म का उपयोग करें और उस पर पेपर ट्रेडिंग का अभ्यास करें। यह आपको ट्रेडिंग के लिए वास्तविक समय में डेमो ट्रेडिंग करने का एहसास देता है और आपको प्रैक्टिस करने में मदद करेगा।
  4. ट्रेडिंग जर्नल बनाएं: ट्रेडिंग जर्नल बनाना महत्वपूर्ण है। जब आप पेपर ट्रेडिंग कर रहे होते हैं, तो अपने ट्रेड्स, प्रविष्टियां, निकासी, निवेशक का नियमित निरीक्षण और उन्हें विश्लेषण करने के लिए एक जर्नल बनाएं। यह आपको आपकी स्ट्रैटेजी को संशोधित करने और सुधार करने में मदद करेगा।
  5. सीमित पैमाने पर शुरुआत करें: पेपर ट्रेडिंग करते समय, आप अपने निवेशों को सीमित पैमाने पर रखें।

4.ट्रेडिंग Psychology को समझे(Golden Rules Of Trading In Hindi)

10 Golden Rules Of Trading In Hindi | 10 Rules jinse aap safal trader ban sakte hai 10 नियम जो आपको बना देंगे सफल ट्रेडर | Successful Trader Kaise Bane10 Rules jinse aap safal trader ban sakte hai

ट्रेडिंग मनोविज्ञान या ट्रेडिंग प्रायोगिकी विज्ञान, वित्तीय बाजारों में निवेशकों की मानसिक स्थिति और प्रभावों का अध्ययन करता है। यह एक महत्वपूर्ण विषय है, क्योंकि व्यापारिक निर्णय लेने के दौरान निवेशकों के मनोवृत्ति और भावनात्मकता का प्रभाव उनकी कारोबारिक प्रदर्शन पर होता है।

ट्रेडिंग मनोविज्ञान में कई मुद्दे शामिल होते हैं, जैसे कि भ्रम, आवेगशीलता, स्वार्थ, जुबानी, भावनात्मक खरीद, विपरीत जवाब और संकोच। यह मुद्दे निवेशक के व्यापारिक निर्णय प्रक्रिया में महत्वपूर्ण होते हैं और उनके मार्गदर्शन करते हैं कि निवेशक व्यापार कब करें, कैसे करें और कब छोड़ें।

ट्रेडिंग मनोविज्ञान की एक महत्वपूर्ण अंगिका भावनात्मक खरीद (emotional buying) है। इसमें निवेशक ने भावनात्मक आधार पर एक निवेश करने का निर्णय लिया होता है, बिना किसी विश्लेषण या तकनीकी संकेत के। यह आमतौर पर निष्पक्ष नहीं होता है और व्यापारिक नुस्खों या विशेषज्ञों के सुझावों से प्रभावित होता है। भावनात्मक खरीद के फलस्वरूप, निवेशक को अक्सर गलत निवेश करने की प्रवृत्ति होती है और व्यापारिक नुस्खों का उपयोग नहीं करते हुए नुकसान का सामना करना पड़ता है।

ट्रेडिंग मनोविज्ञान का एक और महत्वपूर्ण मुद्दा है भ्रम (bias)। भ्रम व्यापारिक निर्णयों पर गलत प्रभाव डाल सकता है और निवेशक को सही और विचारशील निर्णय नहीं लेने के कारण नुकसान हो सकता है। कुछ सामान्य भ्रम मामले हैं जैसे कि पुष्टिकरण प्रभाव (confirmation bias), जहां निवेशक वही सूचना खोजेगा जो उसके मौजूदा धारणाओं को पुष्टि करती है, या विलंबन प्रभाव (delayed effect), जहां निवेशक के व्यापारिक निर्णय को विलंबित करने का प्रभाव हो सकता है।

5.कम निवेश से ट्रेडिंग करे(Golden Rules Of Trading In Hindi)

10 Golden Rules Of Trading In Hindi | 10 Rules jinse aap safal trader ban sakte hai 10 नियम जो आपको बना देंगे सफल ट्रेडर | Successful Trader Kaise Bane10 Rules jinse aap safal trader ban sakte hai

कम निवेश से ट्रेडिंग करने के लिए कुछ महत्वपूर्ण निर्देशों का पालन कर सकते हैं:

  1. बजट का निर्धारण करें: अपने निवेश के लिए एक बजट निर्धारित करें और इसे व्यापार के लिए सीमित रखें। यह आपको अपनी वित्तीय स्थिति को सुरक्षित रखेगा और अत्यधिक नुकसान से बचाएगा।
  2. छोटे निवेश के लिए योग्य व्यापार चुनें: छोटे निवेश के साथ व्यापार करते समय, आपको उचित विचारशीलता से व्यापार चुनना चाहिए। इसमें छोटे अभिलेखों के लिए विचारशील निवेश करने वाले निवेशक के लिए छोटे या मध्यम आकार के शेयरों, मुद्रा या कमोडिटी व्यापार शामिल हो सकते हैं।
  3. निवेश के लिए योग्य समय का चयन करें: निवेश के लिए सही समय का चयन करना महत्वपूर्ण है। वित्तीय बाजारों के अचल समय या न्यूज़ की अवधि में निवेश करने से बचें, क्योंकि यह बाजार की स्थिति पर गहरा प्रभाव डाल सकता है।
  4. विवेकपूर्वक विश्लेषण करें: व्यापारिक निर्णय लेने से पहले विवेकपूर्वक विश्लेषण करें। तकनीकी विश्लेषण और मूल्यांकन उपकरणों का उपयोग करें और विशेषज्ञों की सलाह लें।
  5. संयमपूर्वक व्यापार करें: कम निवेश के साथ व्यापार करते समय, संयमपूर्वक रहें और धीमे गति से बढ़ाएं। जब आपको अच्छी लाभ प्राप्त हो जाए, तो निवेश को बढ़ाने की बजाय निपटान करें।
  6. निवेश पर नियंत्रण बनाए रखें: निवेश करते समय, हमेशा नियंत्रित रहें और अतिरिक्त खर्च या आवेश के चक्र में न पड़ें। अपने निवेश को नियंत्रित करने के लिए वित्तीय लक्ष्यों और रिस्क उचित मानकों का पालन करें।

याद रखें, छोटे निवेश से ट्रेडिंग करने में विपणन सीमित होती है और आपको व्यापार के लिए धीमी और सतर्क रणनीतियों का पालन करना चाहिए। व्यापारिक जगत में निवेश करने से पहले विश्लेषण और समझदारी से आगे बढ़ने के लिए समय निकालना महत्वपूण है |

नए ट्रेडर मार्किट से क्यों नहीं पैसे बना पाते है

6.हमेशा एक ट्रेडिंग योजना के अनुसार ट्रेड लेना चाहिए (Golden Rules Of Trading In Hindi)

जब हमारे पास कोई ट्रेडिंग प्लान नहीं रहेगा तो हम अपनी इच्छा से ट्रेड लेने लगेंगे और ऐसा करने से हम जो ट्रेड लेंगे ओ हमारे विचार के आधार पर होगी जो की हमारे और हमारे ट्रेडिंग कैपिटल के लिए बहोत खतरनाक है और जब हम कोई काम योजना करके करते है तो वह सफल होने की chance बढ़ जाते है इसलिए ट्रेडिंग करेने से पहले योजना बनानी होगी तभी हम सफल ट्रेडर बन पाएंगे |

7.हमें stock market में उतना ही पैसा लगाना चाहिये जिसे खोने पर कोई गम न हो | (Golden Rules Of Trading In Hindi)

हम इस बात का भी ध्यान देना है की हमें मार्किट में उतना ही नुकशान करना है जितना हम अफ्फोर्ड कर सके और रात में शुकून से शो सके ये नहीं की जादा पैसा है तो क्या फर्क पड़ता है लगा देता हु 2 lakh 4 lakh 10 lakh तो लगा दो क्यूँ की आप को कोई फर्क नहीं पड़ता आप आमिर हो लेकिन बाकि जीतने ऑडियंस देख रहे है उतना ही invest करे जीतना आप की अगर नुकशान हो भी जाए तो रोज पड़ने वाली जरूरतों में कोई फ़र्क न पड़े हमारे कहने का मतलब यही है की आप को उतना ही पैसा लगाना चाहिए जीतना की डूबने का कोई गम न हो

8.आप को stock market में कभी कोई लोन नहीं लेना चाहिए(Golden Rules Of Trading In Hindi)

10 Golden Rules Of Trading In Hindi | 10 Rules jinse aap safal trader ban sakte hai 10 नियम जो आपको बना देंगे सफल ट्रेडर | Successful Trader Kaise Bane10 Rules jinse aap safal trader ban sakte hai

अगर आप स्टॉक मार्किट में नए है तो जाहिर सी बात है आप के पास कम पैसे हो सकते है क्योंकि कमी लोग होते है जो जिनके पास शुरू से ही जादा पैसा हो तो आप क्या सोचते है क्य्नो न बैंक से लोन ले लिया जाए और मार्किट में इन्वेस्ट कर दिया जाए जो की आप के लिए एक जो जोखिम भरा निर्णय हो सकता है

आप को आप का brokar वे फ़ोन पर बार बार कहेगा सर पैसे नहीं है आप के पास कोई बात नहीं बैंक से उधार लेलो सिर्फ 8 टका पर बोलने दो उसे बकने दो उसे क्यूँ की उसे bank से प्रेसर रहता है उसे bank के produck बेचना है उसका घर आप को लोन देने से चलेगा मगर ये पक्का है आप का घर वह जरुर बर्बाद कर देगा |

9.आप अपना सारा पैसा एक ही स्टॉक में न डाले अगर वह shere गया तो आप भी गए |(Golden Rules Of Trading In Hindi)

Don’t Put All Your Eggs in One Basket Meaning in Hindi का मतलब होता है की अपने सारे अंडे एक ही टोकरी में न रखें। यह एक सामान्य बोलचाल में इस्तमाल होने वाला मुहावरा है, जिसका प्रयोग सदियों से होता आ रहा है, कहने का मतलब यही हम एक ही कंपनी के स्टॉक में अपना सभी पैसा नहीं लगा देना चाहिए अगर हम ऐसा करते है तो हमें भरी नुकशान का सामना करना पड़ सकता है

10.पैसे से या फ्री की टिप्स न ले (Golden Rules Of Trading In Hindi)

अगर हमे कोई कहता है भाई आप को मै हर दिन प्रॉफिट करूँगा बस आप मुझे रोज २०० रूपये दो या फिर फ्री में कोई आपको टिप्स दे रहा है तो हमें ऐसे लोगो से सतर्क रहना है और free का tip नहीं लेना चाहिए कोई आप को कमा के क्यूँ देगा खुद नहीं कमा लेगा उसको बोलो अपना profit दिखाओ पता तो चले की कितने share है उसके पास उस company के हुंगे ही नहीं उसके पास अगर tips देने वाले खुद invest करेंगे तो इनको समझदार कोन कहेगा

अनुच्छेद या शीर्षक में दिए गए एजुकेशन कंटेंट के संबंध में एक डिस्क्लेमर शामिल हो सकता है जो उपयोगकर्ताओं को निम्नलिखित मामलों के बारे में जागरूक कर सकता है:

  1. सामग्री का उद्देश्य: एक एजुकेशन कंटेंट डिस्क्लेमर उपयोगकर्ताओं को सूचित कर सकता है कि सामग्री केवल शैक्षिक उद्देश्यों के लिए है और यह किसी विशेष उद्देश्य के लिए नहीं है। यह ज्ञान, जानकारी, योग्यता या परामर्श की जगह नहीं ले सकती है।
  2. त्रुटियों की संभावना: यह एक दिस्क्लेमर उपयोगकर्ताओं को आवश्यकता के लिए सूचित कर सकता है कि किसी एजुकेशन कंटेंट में त्रुटियों की संभावना हो सकती है। यह विशेष रूप से वैधता, सटीकता और पूर्णता की दृष्टि से लागू होता है। इसलिए, प्रयोक्ता अपनी ज़िम्मेदारी में यह सुनिश्चित करता है कि उन्हें सामग्री की पुष्टि करने के लिए अन्य स्रोतों की जांच भी करनी चाहिए।

Trading Habits in hindi : 39 of the World’s Most Powerful Stock Market Rules By Steve Burns & Holly Burns

इंडियन शेयर मार्केट Hindi

Leave a Comment

Translate »